एमपी कैबिनेट विस्तार पर शिवराज-शाह की मुलाकात

226
खाली हाथ लौटे सीएम शिवराज , मध्य प्रदेश कैबिनेट

आज मोदी से भेंट के बाद एमपी कैबिनेट विस्तार पर लग सकती है अंतिम मुहर

एमपी के बहुप्रतिक्षित कैबिनेट विस्तार (MP Cabinet Expansion) पर बीती रात मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के साथ मुलाकात हो गई। माना जा रहा है कि लगभग आधी रात तक चली इस बातचीत में संभावित मंत्रियों के नाम पर सहमति बन चुकी है। अब मामला प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के सामने जाना बाकी है। यदि सबकुछ ठीकठाक रहा तो आज मध्य प्रदेश के मंत्रि मंडल के विस्तार पर अंतिम मुहर लग सकती है।

भोपाल से आकाश मोदी की रिपोर्ट
भोपाल। राज्यपाल आनंदी बेन (Anandi Ben) की प्रदेश वापसी के साथ ही अब यह उम्मीद बंधने लगी है कि मध्य प्रदेश के मंत्रिमंडल (MP Cabinet Expansion) का विस्तार जल्दी ही होने जा रहा है। यह संभावना इसलिए भी मजबूती पा रही है कि मुख्य मंत्री शिवराज सिंह (Chief Minister Shivraj Singh) मामले को लेकर दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं। प्राप्त जानकारी के मुताबिक वे इस मामले में एक कदम और आगे बढ़ चुके हैंं।

Click Here – To Like And Follow Our FaceBook Page

केंद्रीय गृहमंत्री और पूर्व भाजपाध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के साथ एमपी कैबिनेट विस्तार को लेकर सहमति स्थापित हो चुकी है। बताया जाता है कि शिवराज – शाह मुलाकात एवं शाह के साथ शिवराज की बैठक देर रात तक चली। दो चरणों में सम्पन्न हुई इस बैठक में शाह ने पहले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से उनका प्रस्ताव जाना। दूसरे चरण मे प्रदेश के भाजपााध्यक्ष वीडी शर्मा तथा महामंत्री सुहास भगत को भी मंत्रणा में शामिल कर लिया गया। बात में चारों की सहमति के बाद ये तय पाया गया कि अब एमपी कैबिनेट विस्तार को लेकर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से अंतिम मुहर लगवा ली जाए।

संभव है, आज प्रदेश के तीनों नेताओं की मोदी से मुलाकात हो जाएगी। साथ में यह उम्मीद भी जताई जा रही है कि जब शाह की सहमति मिल गई है तो अब मोदी की अनुमति मिलना केवल औपचारिकता शेष है। ज्ञात ही है कि अगले महीने सरकार को विधान सभा के मानसून सत्र का सामना भी करना है। उसके बाद फिर 24 सीटों पर उपचुनाव की तैयारियों में भी जुटना है। इस लिहाज से अब कैबिनेट का विस्तार जल्दी से जल्दी होना स्वाभाविक हो गया है।

सर्वाधिक पढ़ी गयीं खबरें व आलेख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here