मां की हत्या की वजह बन गई बेटे की बेरोजगारी

0
बेटे की उम्र के लडक़े से वासना का खेल महंगा पड़ा

डॉग स्क्वाड ने खोला कत्ल का राज

कोरोना काल में बेरोजगारी भी एक अहम् मुद्दा बनकर उभरी है। ऐसे में एक बेटे की बेरोजगारी उसकी मां की हत्या की वजह बन गई। मामले को लेकर मृतिका के पड़ौसी भौचक्के हैं। शक जताया जा रहा था कि बेरोजगार बेटे की मां को किसी ने खुन्नस निकालने कि लिए मारा होगा। लेकिन डॉग स्क्वाड के प्रशिक्षित स्वान ने मामले को खोल कर रख दिया।

ग्वालियर। यहां पर दो दिन पहले एक अधेड़ महिला का शव उसके मेवाती मौहल्ले स्थित निवास से बरामद किया गया था। पुलिस के मुताबिक मृतिका नशे के कारोबार में लिप्त थी। यहां तक कि उसका पति भी नशे के कारोबार में पकड़ा हो जाने पर जेल में निरू द्ध बना हुआ है। इसी वजह से यह माना जा रहा था कि महिला तारा भदौरिया की हत्या किसी पुराने दुश्मन ने या फिर उसके किसी प्रतिस्पर्धी ने की होगी।

Click Here – To Like And Follow Our FaceBook Page

एक प्रकार से यह अंधा कत्ल ही बना रहा। तभी पुलिस ने फॉरेंसिक जांच पड़ताल के बाद डॉग स्क्वाड का सहारा लेने की ठानी। जैसे ही प्रशिक्षित स्वान को लाया गया, वैसे ही उसने कत्ल वाली जगह से चलकर मृतिका के पुत्र जितेंद्र को दबोच लिया। पुलिस ने संतुष्टि के लिए उक्त प्रक्रिया को पुन: दुहराया तो दुबारा भी श्वान ने जितेंद्र को ही जा पकड़ा। संतुष्टि होने पर पूछताछ शुरू की गई।

पहले तो जितेंद्र ने पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया। लेकिन जब पुलिस ने उसे पूछताछ के बाकी तरीकों से भी अवगत कराया, वैसे ही जितेंद्र टेप रिकार्डर की तरह बजना शुरू हो गया। उसने बताया कि मेरे बेरोजगार होने से मां कुपित थी। आए दिन मेरे साथ झगड़ा किया करती थी। बीती बुध और गुरूवार की रात को भी कहासुनी हुई तो मेरा मूड बिगड़ गया।

रात को जब मां लेट कर टीवी देख रही थी। उसी दौरान मौका पाकर मैने मां के सिर पर भारी प्रहार किया और मां की हत्या कर काम तमाम कर दिया। यह वार इतना कारगार साबित हुआ कि बेटे के हाथ मारी गई तारा चिल्ला भी नहीं पायी और फडफ़ड़ा कर शांत हो गई। बता दें कि मृतिका अपने मकान में नीचे के हिस्से में रहती थी। जबकि उसके बहू बेटे ऊपर के कमरे में निवास करते हैं।

सर्वाधिक पढ़ी गयीं खबरें व आलेख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here